awaaj

March 15, 2011

आवाज़ – Voice of India


518 लाख करोड़ रुपये का सवाल है

“भारतीय गरीब है लेकिन भारत देश कभी गरीब नहीं रहा ” ये कहना है स्विस बैंक के  डाइरेक्टर का, स्विस बैंक के डाइरेक्टर ने यह भी कहा है कि भारत का लगभग 11.5 Trillion Dollar यानी लगभग 518 लाख  करोड़ रुपये (518 ,00 ,000 ,000 ,000) उनके स्विस बैंक में जमा है. ये रकम इतनी  है कि भारत का आने वाले 40 सालों का बजट बिना टैक्स के बनाया जा सकता है. या यूँ कहें कि 125 करोड़ रोजगार के अवसर दिए जा सकते है. भारत के किसी भी गाँव से दिल्ली तक 4 लेन रोड बनाया जा सकता है. ऐसा भी कह सकते है कि 500 से ज्यादा सामाजिक प्रोजेक्ट पूर्ण किये जा सकते है. ये रकम इतनी ज्यादा है कि अगर हर भारतीय को 3500 रुपये हर महीने भी दिए जाये तो 50 साल तक ख़त्म ना हो. यानी  भारत को किसी वर्ल्ड बैंक से लोन लेने कि कोई जरुरत नहीं है. जरा सोचिये … हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और नोकरशाहों ने कैसे देश को लूटा है और  ये लूट का सिलसिला अभी तक 2011 तक जारी है. इस सिलसिले को अब रोकना बहुत ज्यादा जरूरी हो गया है. अंग्रेजो ने हमारे भारत पर करीब 200 सालो तक राज करके करीब 1 लाखकरोड़ रुपये लूटा. मगर आजादी के केवल 64 सालों में हमारे नेताओं ने हमसे 518 लाख करोड़ लूटा है. एक तरफ 200 साल में 1 लाख करोड़ है और दूसरी तरफ केवल 64सालों में 518 लाख करोड़ है. यानि हर साल लगभग 8.10 लाख करोड़, या हर महीने करीब 67 हजार करोड़ भारतीय मुद्रा स्विस बैंक में इन भ्रष्ट लोगों द्वारा जमा करवाई गई है.. सोचो की कितना पैसा हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और उच्च अधिकारीयों ने ब्लाक करके रखा हुआ है. हमे भ्रष्ट राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारीयों के खिलाफ जाने का पूर्ण अधिकारहै. हाल ही में हुवे घोटालों का आप सभी को पता ही है – Common Wealth Games घोटाला, २जी स्पेक्ट्रुम घोटाला , आदर्श होउसिंग घोटाला … और ना जाने कौन कौन से घोटाले अभी उजागर होने वाले है .. आप लोग जोक्स फॉरवर्ड करते ही हो. इसे भी इतना फॉरवर्ड करो की पूरा भारत इसे पढ़े … और एक आन्दोलन बन जाए ..

एक चीज़ तो आप भी अच्छी तरह से जानते होंगे कि हमारे देश से लूटा हुआ ये सारा पैसा ये लोग सिर्फ Swiss बैंक में तो रखते नहीं होंगे, बल्कि इनके और भी कई अड्डे होंगे जहाँ ये अपना काला धन छुपा के रखते हैं. इसके अलावा इनकी देश-विदेश में कई जमीन और प्रोपर्टी भी होती हैं. तो फिर आप अच्छी तरह से अनुमान लगा सकते हैं कि ये लोग हमारा पैसा किस हद तक लूट रहे हैं ….

जरा सोचिये, जब आपके घर में चोरी होती है तो क्या आप चुप बैठते हो ? तो क्या हमारा भारत हमारा घर नहीं, क्या इसमें रहने वाले लोग हमारे अपने नहीं ? फिर हम हमारे भारत में हो रही इस चोरी के खिलाफ “आवाज” क्यों नहीं उठायें ? हमारे पुरखों ने हमारी ख़ुशी की खातिर अपनी जान तक दांव पे लगा दी थी तो क्या हम हमारे ही हक के लिए “आवाज़” नहीं उठा सकते ? ऐसा नहीं है कि हमारे आवाज़ उठाने से कुछ भी नहीं बदलेगा. हम लोग अगर मिलकर अपना पूरा ज़ोर लगा देंगे तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है. आज हम पहले से भी ज्यादा Educated हैं, हमारे पास पहले से भी कई गुना ज्यादा बेहतर Technology है. Communication के कई ज्यादा साधन हैं, हमारे पास इन्टरनेट है. इनका इस्तेमाल करके हम कुछ ऐसा बदलाव ला सकते हैं जिस से हम फिर से एक सम्पन्न और खुशहाल जिंदगी जी सकेंगे, सर उठाकर जी सकेंगे. हमारा भविष्य बदल जायेगा, रोजगार के अवसरों की भरमार होगी. हमारे देश की अर्थव्यवस्था अमेरिका और ब्रिटेन से भी बढ़कर होगी . हमें सिर्फ हमारे हक के लिए मिलकर इस चोरी के खिलाफ “आवाज़” उठाना है.
अगर हमने अब भी कुछ नहीं किया तो फिर चुपचाप देखने वाले और कुछ भी नहीं बोलने वाले जानवरों में और हम में कोई फर्क नहीं रह जायेगा और हम जानवरों जैसे ही तकलीफों में जीते रहेंगे..

दोस्तों जिस तरह गांधीजी ने सत्याग्रह करके वो कर दिखाया जो हम २०० साल तक नहीं कर सके, उसी तरह बाबा रामदेव भी वही कर रहे थे और अन्ना हजारे भी वही कर रहे हैं जो हर भारतीय का फ़र्ज़ बनता है, जो हमने ६४ सालों से नहीं किया  अब अन्ना हजारे  और बाबा रामदेव जैसे शूरवीर ही हमारे देश को एक अच्छी दिशा दे सकते हैं. आज ४ जून २०११ को दिल्ली के रामलीला मैदान में बाबा रामदेव देश से लुटे हुए ४०० लाख करोड़ रूपये वापस लौटाने और उन पैसों को लूटने वालों को सजाए मौत देने के लिए सत्याग्रह आन्दोलन कर रहे थे, हजारों लोग उनके साथ बैठकर भूख हड़ताल कर रहे थे और अब अन्ना हजारे भी उसी रामलीला मैदान में लोकपाल बिल लाने की मांग पर भूख हड़ताल कर रहे हैं . भारत में कई जगहों पर जनता सड़क पे आ गयी है और देश के लिए अपनी आवाज उठा रही हैं . साधू-संत, मौलवी, पादरी और सिक्ख धर्मं गुरु भी उनमे शामिल हैं.  मगर हमारा भी ये फ़र्ज़ बनता है की हम इन देश भक्तों की मदद करें और हमसे जितना हो सके उतना सहयोग करें. क्यूंकि ये लोग जो काम कर रहे हैं वो हमारी ही ख़ुशी की खातिर कर रहे हैं, इस देश के लिए कर रहे हैं.

आप इस बारे में क्या सोचते हैं ? आप अपने विचार कमेन्ट के जरिये हमें बता सकते हैं…

सत्यमेव जयते !

Blog at WordPress.com.